Sunday, July 18, 2010

सिर्फ़ दिखलाने के लिए - और एकदम उपयोगिता रहित




यश
वह है जो लोग-लुगाई हमारे विषय में सोचते हैं ,

चरित्र वह है जो ईश्वर और देवता हमारे विषय में जानते हैं


-पेन



बिना चरित्र के ज्ञान शीशे की आँख की तरह है -

सिर्फ़ दिखलाने के लिए - और एकदम उपयोगिता रहित


-स्विनोक





4 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

यह आदर्श वाक्य सहेज लिए हैं!

honesty project democracy said...

बिना चरित्र के ज्ञान शीशे की आँख की तरह है -

सिर्फ़ दिखलाने के लिए - और एकदम उपयोगिता रहित

सबसे उम्दा विचार जिसपर अमल की आज सख्त जरूरत है ,चारित्रिक पतन ही सभी दुखों का कारण है |

Udan Tashtari said...

सटीक!

डॉ टी एस दराल said...

सद्विचार ।
याद रखने योग्य ।

Labels

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 

Followers

Blog Archive