Tuesday, June 28, 2011

रंगलाल ने अपना माथा ठोक लिया





नंगलाल ने पूछा - पापा, मैं जब भी शाम को घर से बाहर जाने लगता हूँ

तो मम्मी मना कर देती है, कहती है तू अभी बच्चा है । तो मैं इतना

बड़ा कब होऊंगा जब मम्मी से पूछे बिना घर से बाहर जा सकूँगा ?


रंगलाल ने अपना माथा ठोक लिया और उदास स्वर में कहा - बेटा,

इतना बड़ा तो अभी मैं भी नहीं हुआ हूँ


vishwa hindi samiti,honor,award,hasya,kavi,sammelan,albela,khatri,kavita,jokes,raju,shrivastva,bigg,boss,bhaabhi,devar,sali,lady,no porn,sensex,kids,bhrashtachaar,wife










7 comments:

nilesh mathur said...

सच है, इतना बड़ा तो मैं भी नहीं हुआ!

Sunil Kumar said...

इतना शब्द का अर्थ बताइए ......:)

arvind said...

ha ha ha.....

डॉ टी एस दराल said...

ha ha ha ! badhiya .

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

हां जी, अन्ना साहब भी रोमोट कंट्रोल का ज़िक्र कर रहे हैं :)

zeashan zaidi said...

तभी पत्नियां कहती हैं, कब तक बच्चे बने रहिएगा.

ड्रामा द ग्रेट डिक्टेटर्स

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

पिता-पुत्र की हाजिरजवाबी का जवाब नहीं!

Labels

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 

Followers

Blog Archive