Saturday, September 4, 2010

अन्तर्मुखता ही सच्चे शिक्षण की शुरूआत है -स्वामी रामतीर्थ




वास्तविक शिक्षा का आदर्श यह है

कि
हम अन्दर से कितनी विद्या

निकाल सकते हैं,

यह
नहीं कि बाहर से कितनी अन्दर डाल चुके हैं

-स्वामी रामतीर्थ


उन विषयों का पढ़ना

जो
हमारे जीवन में कभी काम नहीं आते,

शिक्षा नहीं है

-स्वामी रामतीर्थ


अन्तर्मुखता ही सच्चे शिक्षण की शुरूआत है

-स्वामी रामतीर्थ


2 comments:

Shah Nawaz said...

स्वामी राम तीर्थ जी की सभी सीख बेहतरीन लगी.


मेरी ग़ज़ल:
मुझको कैसा दिन दिखाया ज़िन्दगी ने

Udan Tashtari said...

आभार इस प्रस्तुति का.

Labels

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 

Followers

Blog Archive