Friday, July 16, 2010

अकृतज्ञ मानव से एक कृतज्ञ कुत्ता बेहतर है




अगर इन्सान

सुख-दुःख की चिन्ता से ऊपर उठ जाये

तो आसमान की ऊँचाई भी उसके पैरों तले जाये..........



अकृतज्ञ मानव से एक कृतज्ञ कुत्ता बेहतर है


- शेख सादी



3 comments:

विनोद कुमार पांडेय said...

आदमी कई तरह के होते है...और जानवर बनने में भी देर नही लगती है...बढ़िया सार्थक कथन..धन्यवाद अलबेला जी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

सही कहा है!
--
इसीलिए तो कुत्ता कारों में सैर करता है और आदमी मजदूरी करता है!

डॉ टी एस दराल said...

शायद ।

Labels

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 

Followers

Blog Archive